‘चीन ने 13वीं पंचवर्षीय योजना को ‘नव सामान्य’ (New Normal) घोषित किया है। इससे भारी उद्योग से हटकर इलेक्ट्रॉनिक्स और दूरसंचार की उच्च गुणवत्ता वाली ऊंची वैल्यू चेन पर जोर…

‘दक्षिण एशिया उपमहाद्वीप भारत, पाकिस्तान, नेपाल, भूटान, श्रीलंका, बांग्लादेश और मालदीव-इन सात देशों से बना है। साउथ एशियन असोसििएशन फॉर रीजनल कोआपरेशन (SAARC) 1834 में परस्पर सहयोग के जरिए इन…

‘भारत एक अहम दौर से गुजर रहा है। 1991 में भारत ने अपनी अर्थव्यवस्था के द्वार खोले और एक के बाद एक कई आर्थिक उपलब्धियां हासिल कीं। विश्व पटल पर…

भारत हमेशा से वाणिज्य और संस्कृति की भूमि रहा है। उसके आध्यात्मिक और सांस्कृतिक पहलू हमें मालूम ही नहीं, उनपर इठलाते हुए हम चर्चाएं भी किया करते हैं। पर, व्पापार…

‘मजबूत और स्थायित्व वाला पहला पड़ोसी विकास और सुरक्षा के लिए उत्प्रेरक का काम करता है और इसलिए भारत का नजरिया यह है कि वह अपने पड़ोस में विकास और…

व्यापारीगण नदियों में उसी तरह मनचाहा भ्रमण करते थे, जैसे तालाबों में, वनों में और अपने खुद के घरों में… वह (शासक) धरती की रक्षा किया करता था, इसलिए धरती…

कलादान मल्टी-मॉडल पारगमन परिवहन परियोजना कलादान मल्टी-मॉडल पारगमन परिवहन परियोजना भारत और म्यांमार के आर्थिक सहयोग की आधारशिला है। मंत्रिमंडल ने इस परियोजना को मार्च, 2008 में मंजूरी दी तब…

भारत, ईरान और अफगानिस्तान के बीच नए समझौते की घोषणा ‘ईरान के सास्तन-बलुचिस्तान प्रांत में चाबहार बंदरगाह का धूम-धाम से उद्घाटन एक ऐतिहा‌सिक घटना है। यह बंदगाह ईरान और अफगानिस्तान…

‘एक मजबूत और स्थायी निकटतम पड़ोसी विकास और सुरक्षा का उत्प्रेरक है। इसलिए भारत का दृष्टिकोण अपने पड़ोस में स्थायित्व लाने और वहां विकास करने में है। ‘ऐक्ट ईस्ट’ दृष्टिकोण…

‘बदलती हुई प‌रिस्थितियों ने भारत औरआसियान-दोनों को एक साथ आने, अपने संबंधों को व्यापार और पर्यटन से आगे ले जाने और रक्षा और आधारभूत विकास के लिए संभावनाओं का पता…

error: Content is protected !!